सिनेमेटोग्राफी एक्ट में बदलाव, आपकी एक गलती और भरना पड़ सकता है 10 लाख का जुर्माना

Bollywood Hangover 2019-02-09T01:34:14+01:00 Bollywood

Navodayatimes

बॉलीवुड पिछले लम्बे वक्त से पायरेसी से जूझ रही है और उसको रोकने की उनकी सारी कोशिश नाकाम ही रही है। ऐसे में भारत के प्रधानमंत्री (India’s Prime Minister) नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने 1952 में बने सिनेमेटोग्राफी एक्ट (Cinematography Act) में बदलाव किया है। जिसके बाद शायद इस गैरकानूनी हरकत पर रोक लग सकती है।   

Navodayatimes 

दरअसल,फिल्मों की पायरेसी रोकने के लिए मोदी सरकार ने सिनेमेटोग्राफी एक्ट 1952 (Cinematography Act,1952) में बदलाव को मंजूरी दे दी है। इस बदलाव के बाद अगर कोई भी व्यक्ति सिनेमाघरों में फिल्मों को रिकॉर्ड करता पकड़ा गया तो उस पर 10 लाख रुपए तक का जुर्माना हो सकता है। इसके अलावा आरोपी को तीन साल तक की जेल भी हो सकती है।

Navodayatimes

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Central Minister Ravishankar Prasad) ने बुधवार को कैबिनेट को इस फैसले की जानकारी दी। मूवी पायरेसी को रोकने के लिए ही सरकार ने सिनेमैटोग्राफी एक्ट 1952 में इन बदलावों को हरी झंडी दिखाई है।

 

पिछले कई सालों से कई पाइरेटेड वेबसाइट जैसे तमिलरॉकर्स, टोरेंट वेबसाइट्स और दूसरे अन्य साइट्स नए रिलीज़ेस को  गैरकानूनी तरीके से इंटरनेट पर डालती आ रही हैं। जिसके चलते फिल्म के कलेक्शन पर काफी प्रभाव पड़ता है।

इस साल आई मणिकर्णिका, ठाकरे, उरी आदि पायरेसी का शिकार हो चुकी है।   

Navodayatimes

ऐसे में सिनेमेटोग्राफी एक्ट में बदलाव करना काफी जरुरी था। इस बदलाव के तहत  सिनेमेटोग्राफी एक्ट 1952 के 6 एए में एक नई धारा जोड़ी जाएगी। जिसके बाद किसी भी फिल्म को बिना प्रड्यूसर या कंपनी की अनुमति के रिकॉर्ड करना जुर्म होगा। ऐसा करने पर संबंधित आरोपी को 3 साल की जेल या 10 लाख रुपए तक का जुर्माना या फिर दोनों हो सकता है।Navodayatimes

सरकार के इस सराहनीय कदम का प्रड्यूसर्स गिल्ड ने स्वागत किया है। प्रड्यूसर गिल्ड ने बयान जारी कर लिखा- एसोसिएशन खुले दिल से भारत सरकार के इस कदम का स्वागत करती है। सरकार का ये कदम पीएम नरेंद्र मोदी के उस वादे को पूरा करता है जो उन्होंने 19 जनवरी 2019 को सिनेमा म्यूजियम के उद्घाटन के दौरान किया था।

Navodayatimes

नरेन्द्र मोदी पिछले कुछ दिनों में बॉलीवुड के कई दिग्गजों के साथ मुलाकात कर चुके हैं। जहाँ फिल्मों के टैक्स से लेकर फिल्मों को इंटरनेशनल लेवल स्तर पर ले जाने जैसे कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात हुई थी।

Similar Post You May Like