पकिस्तान के इस ओछे हरकत पर देखिये कैसे बॉलीवुड ने किया रियेक्ट

Bollywood Hangover 2019-01-11T12:23:28+01:00 Bollywood

कहते हैं कला और संस्कृति मुल्क और भाषाओं से परे है। लेकिन पाकिस्तान-हिंदुस्तान के मुद्दे पर ये बात भी केवल किताबी बातें बनकर रह जाती है।

पहले जहाँ हमने पाकिस्तानी कलाकारों को अपने देश में काम देने से मना कर दिया था तो वहीं अब पाकिस्तानी सरकार ने भारतीय टीवी शोज को अपने यहाँ ब्रॉडकास्ट करने से रोक दिया। हाल ही में पाकिस्तान उच्चतम न्यायलय ने ये फैसला सुनाया और वजह दी गयी कि इंडियन टीवी शोज मुसलमानी सभ्यता के लिए खतरा है और अगर उनके नौजवान इन शोज को देखते रहेंगे तो आहिस्ते-आहिस्ते वो सब अपनी सभ्यता भूल जायेंगे।

Navodayatimes

इस बाबत जब बॉलीवुड के दिग्गजों से पूछा गया तो सबने इस फैसला को गलत बताया। मौका था बॉलीवुड फिल्मों में उर्दू भाषा को इस्तेमाल में लाने वाले मशहूर शायर और अभिनेत्री शबाना आज़मी (Shabana Azmi) के पिता कैफ़ी आज़मी साहब की जन्मदिवस। इस मौके पर बॉलीवुड के कई दिग्गज जैसे विद्या बालन (Vidya Balan), सिद्धार्थ रॉय कपूर (Siddharth Roy Kapoor), इला अरुण (Ila Arun) ,नीना गुप्ता (Nina Gupta), दिव्या दत्ता (Divya Dutta) नंदिता दास (Nandita Das), फरहान अख्तर (Farhan Akhtar) आदि शामिल थे और उन सबने खुलकर अपनी राय रखी।

Navodayatimes

लेखक और स्क्रिप्टराइटर जावेद अख्तर (Jaaved Akhtar) साहब ने कहा, "यह प्रतिबंध वाली बात समझ नहीं आती। ये सब बेकार कि बातें हैं। कई बार उन्होंने लता मंगेशकर को पाकिस्तान नहीं आने दिया, हमारा कॉन्टेंट किसी का कल्चर क्या खराब करेगा, हम उनके टीवी शोज़ यहां भारत में देखते हैं, ये सब बेकार की बातें लगती हैं।" 

वहीं इंटरनेशनल सिंगर और एक्ट्रेस इला अरुण (Ila Arun) ने कहा कि, “फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन, फ्रीडम ऑफ स्पीच सबसे अहम है और चाहे वह कोई भी देश हो।।वहां का देश हो या यहां का देश हो।।।अगर फ्रीडम ऑफ एक्सप्रेशन पर पाबंदी लगाई जाती है, रोक-टोक की जाती है तो यह बात बिल्कुल गलत है यह सही नहीं है।”

Navodayatimes

इस बारे में बेहतरीन अदाकारा दिव्या दत्ता (Divya Dutta) ने भी अपनी राय व्यक्त की, उनके अनुसार आर्ट और कल्चर सीमा में नहीं बंधे हैं और उन्हें सीमा में बांधना नहीं चाहिए। इस तरह की रोक बिल्कुल सही नहीं है ।।आर्ट और कल्चर तो सांस्कृतिक धरोहर है।

वहीं पिछले साल बधाई हो (Badhai Ho), मुल्क (Mulk), वीरे दी वेडिंग (Veere di wedding) जैसी फिल्मों से बॉलीवुड में वापसी करने वाली दिग्गज नीना गुप्ता (Neena Gupta) ने कहा कि, प्रतिबंध वगैरह कुछ नहीं होता।।।यह सब कुछ राजनीति से प्रेरित है। आम जनता को कोई फर्क नहीं पड़ता जिसे जो देखना है, वह देखता है।

ये वही पाकिस्तान है जिसने पिछले साल भारत की विवादित फिल्म पद्मावत (Padmavat) को अपने यहाँ सेंसर में पास करते हुए कहा था कि उनका मुल्क संस्कृति और कला को सम्मान देता है। फिर अचानक से उन्हें आज हमारी संस्कृति से क्या तकलीफ हुई, इसका जवाब तो उन्हीं के पास ही होगा।   

Similar Post You May Like