Birthday Special: जानिये फरहान अख्तर के जीवन से जुड़ी कुछ अनसुनी कहानियाँ

Bollywood Hangover 2019-01-09T10:35:00+01:00 Bollywood

फरहान अख्तर (Farhan Akhtar) का जन्म 9 जनवरी, 1974 को मशहूर लेखक जावेद अख्तर (Javed Akhtar) और हनी ईरानी (Honey Irani) के घर हुआ। 

Navodayatimes

अपने कैरियर के शुरूआती दिनों में फरहान अख्तर ने यश चोपड़ा (Yash Chopra) और पंकज पराशर को  उनकी फिल्में लम्हें (Lamhein, 1991) और हिमालय पुत्र (Himalay Putra,1993) में असिस्टेंट के तौर पर काम किये थे 

Navodayatimes

फरहान अख्तर इंडस्ट्री के ऐसे पहले अभिनेता थे जिन्होंने अपने फिल्म के सारे गानें खुद से गाये। फिल्म थी रॉक ऑन(Rock On, 2008)।

Navodayatimes

फरहान अख्तर (Farhan Akhtar) अपने दोस्त और अभिनेता हृतिक रोशन (Hrithik Roshan) से सिर्फ एक दिन बड़े है।

Navodayatimes

फरहान अख्तर कॉकरोच से काफी डरते हैं। लेकिन वो मानते हैं कि एक दिन ऐसा जरुर आएगा जब वो इस डर से उबर जायेंगे।

Navodayatimes

ये बहुत ही कम लोग जानते होंगे कि फरहान अख्तर (Farhan Akhtar) को पहले राकेश ओमप्रकाश मेहरा (Rakeysh Omprakash Mehra) ने रंग दे बसंती (Rang De Basanti,2006) में आमिर खान (Aamir Khan) का रोल ऑफर किया था। जिसे वो मना कर गए। वो आज भी उसे अपने ज़िन्दगी की सबसे बड़ी भूल मानते है।

Navodayatimes

फरहान अख्तर अपने कॉलेज के बाद करीब दो साल तक घर में बैठकर सिर्फ फिल्म देखते रहे। उनकी माँ ने जब उन्हें घर से निकालने की धमकी दी तब उन्होंने दिल चाहता है (Dil Chahta Hai,2001) बनाया।

Navodayatimesबाद में अपने जीवन से ही प्रेरणा लेकर उन्होंने लक्ष्य (Lakshya,2004) बनाया। उनके हिसाब से वही दो साल थे जब उन्होंने फिल्म को करीब से देखा और समझा था।

Navodayatimes

फरहान अख्तर(Farhan Akhtar) इंडस्ट्री को कई बेहतरीन फिल्में एक अभिनेता, निर्देशक, लेखक, निर्माता के तौर पर दे चुके हैं और आज उनके जन्मदिन के अवसर पर हम ये उम्मीद करते हैं कि कई सालों तक वो दिल चाहता है और लक्ष्य जैसी फिल्में हमें देते रहे।                  

Navodayatimes

 

Similar Post You May Like