Birthday Special: मुश्किलों का सामना कर आज बॉलीवुड में सबको नचा रही है फराह खान

Bollywood Hangover 2019-01-09T01:36:48+01:00 Bollywood

Navodayatimes

कहते हैं मुश्किलों का सामना जो डटकर करता है, दुनिया में अपनी पहचान वही बनाता है। फराह खान (Farah Khan) भी उन्हीं नामों में से एक है।

Navodayatimes

फराह खान (Farah Khan) का जन्म 9 जनवरी, 1965 को स्टन्टमैन टर्न्ड डायरेक्टर कमरान खान और मेनका खान के यहाँ हुआ था।

Navodayatimes

फराह खान (Farah Khan) के माता पिता उसके बहुत कम उम्र में अलग हो गये थे। अलग होने के बाद उनके पिता ने दूसरी शादी कर ली और फराह उसकी माँ और भाई साजिद खान (Sajid Khan) को किस्मत के भरोसे छोड़ दिया।

Navodayatimes

जहाँ एक तरफ फराह का परिवार मुश्किलों का सामना कर रहे थे वहीं दूसरी ओर उसके पिता एक के बाद सफल फिल्में देते हुए इंडस्ट्री में काफी नाम और पैसा कमा चुके थे।

Navodayatimes

उनकी माँ मेनका, जावेद अख्तर (Javed Akhtar) की पहली पत्नी हनी ईरानी की बहन है। जिस हिसाब से फरहान अख्तर (Farhan Khan) और जोया अख्तर (Zoya Akhtar) इनके मौसेरे भाई-बहन लगते हैं।

Navodayatimes

कहा ये भी जाता है कि शादी के वक्त जावेद अख्तर बेरोजगार थे तब फराह के पिता कमरान ने ही उन्हें अपना एक फ्लैट रहने को दिया था लेकिन वक्त के साथ उनकी फिल्में फ्लॉप होती गयी और उनकी शादी भी टूट गयी, नतीजन वो शराब के आदि होते गए और जल्द ही नशे ने उनकी जान ले ली।

Navodayatimes

पिता से अलग होने के बाद फराह ने बहुत कम उम्र में परिवार की बागडोर अपने हाथों में ले ली और फिल्मों की ओर उन्होंने रुख किया। शुरुआत में उन्होंने फिल्मों में बैकग्राउंड डांसर के तौर पर काम करना शुरू किया।

Navodayatimes

फराह खान इंडस्ट्री में निर्देशिका बनने आई थी लेकिन किस्मत ने करवट बदली, जब साल 1992 में डांस कोरियोग्राफर सरोज खान (Saroj Khan) ने जो जीता वही सिकंदर (Jo Jeeta Wohi Sikandar) की कोरियोग्राफी बीच में छोड़ दी तब फराह खान (Farah Khan) को उनके जगह पर आना पड़ा।

Navodayatimes

इसके बाद फराह ने अंगार (Angaar, 1992), वक्त हमारा है (Waqt Humara Hai, 1993) दिलवाले दुल्हनियां ले जायेंगे (Dilwale Dulhaniyaan Le Jayenge, 1995) जैसे फिल्मों में कोरियोग्राफी का काम किया।   

Navodayatimes

फिल्म कभी हाँ कभी ना (Kabhi Haan, Kabhi Naa,1993) के दौरान ही फराह की मुलाकात उस वक्त के उभरते कलाकार शाहरुख़ खान (Shahrukh Khan)से हुई और तब से लेकर आज तक दोनों अच्छे दोस्त हैं।

Navodayatimes

इंडस्ट्री में शाहरुख़ के अलावा फराह की दोस्ती काजोल (Kajol), रानी मुखर्जी (Rani Mukherjee) , करण जौहर (Karan Johar) के साथ भी काफी अच्छी है। इसी वजह से उन्होंने करण की फिल्म कुछ कुछ होता है (Kuch Kuch Hota Hai, 1998) और कल हो ना हो (Kal Ho Naa Ho, 2003) में गेस्ट अपीयरेंस भी दिया था।

Navodayatimes

मैं हूँ ना के शूटिंग के दौरान ही फराह की मुलाक़ात फिल्म के एडिटर शिरीष से हुई और वहीं से दोनों का प्यार परवान चड़ा।

Navodayatimes

9 दिसम्बर, 2004 में दोनों ने शादी कर लिया और इस शादी से इन्हें तीन जुड़वाँ बच्चें हैं।

Navodayatimes

फराह खान ऐसी पहली महिला निर्देशिका है जो फिल्मफेयर में बेस्ट डायरेक्टर के लिए नोमिनेट हुई थी।

Navodayatimes

फराह खान ने कई इंटरनेशनल प्रोजेक्ट्स जैसे मानसून वेडिंग और बॉम्बे ड्रीम जैसी फिल्मों के लिए भी कोरियोग्राफी कर चुकी हैं।

Navodayatimes

आज फराह इंडस्ट्री में बतौर कोरियोग्राफर और डायरेक्टर काफी बड़ा नाम हो चुकी है। मैं हूँ ना (Main Hoon Na,2004), ओम शांति ओम (Om Shanti Om, 2007), हैप्पी न्यू ईयर (Happy New Year,2014) जैसी सफल फिल्मों का निर्देशन कर वो एक बड़ा नाम कर चुकी है।

Navodayatimes

उनके 54वें जन्मदिन के मौके पर हम फराह खान (Farah Khan) को उनके जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं देना चाहते हैं। Happy Birthday Farah Khan।

Similar Post You May Like