अजय देवगन: बॉलीवुड का ऐसा नायक जिनके नाम से ही हिट हो जाती हैं फिल्में, जानिए दिलचस्प स्टोरी 

Bollywood Hangover 2019-07-20T11:51:55+01:00 Bollywood

अजय देवगन में बॉलीवुड के ऐसे नायक हैं जिनके नाम से ही फिल्मों के सुपर हिट होने की गारंटी मिल जाती है। फूल और काँटे' फिल्म से अपने फिल्मी दुनिया में कदम रखने वाले अजय देवगन ने 'दे दे प्यार दे ' तक पहुचते पहुचते कई शानदार और सुपरहिट फिल्मों में अभिनय और निर्देशन किया। 

Navodayatimesजीवन परिचय
अजय देवगन हिंदी फिल्‍मों के मशहूर अभिनेता, निर्देशक और निर्माता हैं। अजय का जन्‍म 2 अप्रैल 1969 को दिल्‍ली के एक पंजाबी परिवार में हुआ था। उनके परिवार का बॉलीवुड से बहुत की करीबी का रिश्ता रहा है। वह मूल रूप से पंजाब के अमृतसर से आते हैं। अजय देवगन का जन्म का नाम विशाल देवगन हैं। उनके पिता वीरू देवगन हिंदी फिल्मों के स्टंटमैन और एक्शन फिल्म डायरेक्टर भी थे।

Navodayatimes
अजय की मां वीणा देवगन ने कुछ फिल्मों का निर्माण किया था। उनका एक भाई भी हैं जिनका नाम अनिल देवगन हैं। अजय ने ग्रेजुएशन मुंबई के मिट्ठी भाई कॉलेज से से किया था। घर में फिल्मी माहौल के होने कारण अजय देवगन की रुचि भी फिल्मों की ओर हो गई और वह फिल्म निर्देशक बनने का सपना देखने लगे। 

Navodayatimesफिल्मी सफर की शुरुआत
ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद अजय देवगन फिल्म निर्देशक शेखर कपूर के साथ सहायक निर्देशक के रूप में काम करने लगे। इसी दौरान उनकी मुलाकात कुक्कु कोहली से हुई जो उन दिनों नई फिल्म 'फूल और कांटे' के निर्माण में व्यस्त थे और एक ऐसे अभिनेता की तलाश में थे जो रोमांटिक किरदार के साथ साथ एक्शन सीन भी कर सके।

Navodayatimes 

इस दौरान उन्होंने अजय देवगन के बारे में सुना कि वे एक्शन और डांस करने में माहिर हैं और उन्होंने अजय से फिल्म का नायक बनने की पेशकश की। अपनी पहली ही फिल्म की सफलता के बाद अजय देवगन दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गए। इसके बाद अजय ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और कामयाबी के शिखर पर पहुंच गए।

Navodayatimes

करिश्मा कपूर से हो गया था इश्क
90 के दशक में अजय देवगन और करिश्मा सबसे रोमांटिक जोड़ियों में से एक थे,दर्शकों ने इस जोड़ी को खूब सराहा। दोनों ने एक साथ 5 फिल्मों में काम किया। इसी दौरान दोनों में प्यार हो गया था। उस दौर की फिल्मी मैग्जीन में छपी खबरों के मुताबिक जब करिश्मा अजय की जिंदगी में आईं तो उस वक्त रवीना के साथ अजय डेट कर रहे थे, लेकिन करिश्मा के प्यार में गिरफ्तार अजय ने रवीना को धोखा दे दिया।
 
Navodayatimes

लेकिन करिश्मा और अजय का रिश्ता भी ज्यादा दिन तक नहीं टिक पाया और इसी दौरान उनकी जिंदगी में काजोल आ गईं। कुछ साल के रिश्ते के बाद ही दोनों ने शादी का फैसला किया। बाद में करिश्मा ने दिल्ली के एक कारोबारी संजय कपूर से शादी कर ली।

Navodayatimes

काजोल से मुलाकात 
अजय देवगन और काजोल को मिलाने में उनकी साली तनिषा ने बड़ी भूमिका निभायी थी। तनिषा ने एक इंटरव्यू में इस बात का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि शुरुआती दौर में जब काजोल और अजय में प्रेम की शुरुआत हुई थी तब वह ही अजय के सारे मैसेज और गिफ्ट्स काजोल को पहुंचाया करती थीं। यहां तक कि दोनों के मिलने की जगह भी तनिषा ही तय करती थीं। चूंकि काजोल ने काफी दिनों के बाद अपने परिवार वालों से अजय के बारे में बताया था। 

Navodayatimes

तनिषा ने बतया कि जब उनकी मां तनुजा को दोनों के अफेयर के बारे में पता चला था तो उन्होंने सिर्फ इसलिए अजय और काजोल के रिश्ते को स्वीकारा था, क्योंकि तनुजा को अजय देवगन के पिता वीरू देवगन काफी हैंडसम लगते थे। तनुजा उनके काम की फैन थीं, तो उनको लगा था कि अजय भी वीरू की तरह ही होंगे।

Navodayatimes

अजय और काजोल की लव स्टोरी 
अजय देवगन और काजोल की लव स्टोरी बाकी प्रेम कहानियों से थोड़ी अलग है। वैसे अजय देवगन काफी शांत इंसान माने जाते हैं लेकिन सेट पर उनसे ज्यादा मजाक कोई और नहीं कर सकता। हालांकि अजय देवगन और काजोल एक दूसरे से काफी अपोजिट हैं पर बॉलीवुड के सबसे पॉपुलर कपल्स की टॉप लिस्ट में इनका नाम शामिल है।

Navodayatimes

अजय और काजोल की शादी 24 फरवरी 1999 को हुई थी। उस समय काजोल 25 की थीं और उनका बॉलीवुड में करियर ऊंचाइयों की उड़ान भर रहा था और अजय देवगन का करियर अच्छा चल रहा था लेकिन काजोल के जितना नहीं। अगर इस कपल के बारे में यह कहें तो गलत नहीं होगा कि काजोल ने अजय का हाथ तब थामा था जब वो बॉलीवुड में स्ट्रगल कर रहे थे। 

Navodayatimes

एक इंटरव्यू में काजोल ने इस बात का खुलासा किया था कि वो जिंदगी और करियर में ठहराव चाहती थीं। इसी वजह से उन्होंने शादी का फैसला लिया था। काजोल का कहना था कि शादी का फैसला लेने से पहले उन्हें बॉलीवुड में काम करते हुए लगभग 9 साल हो गए थे। हर साल 4-5 फिल्में आ रही थीं। सब कुछ था पैसा, शोहरत और कामयाबी पर खुद के लिए ना वक्त था और ना सुकून। एक बड़ा फैसला लेने का वही सही वक्त था। उस टाइम काजोल ने तय किया कि वो उसी से शादी करेंगी जिससे वो प्यार करती हैं और सही टाइम पर करेंगी। 

Navodayatimes

एक-दूसरे को प्रपोज नहीं किया था अजय और काजोल ने
अजय देवगन और काजोल की लव स्टोरी में सबसे अजीब बात यही है कि दोनों में से किसी ने भी एक दूसरे को प्रपोज नहीं किया था लेकिन दोनों को ही पता था कि दोनों एक दूसरे से प्यार करते हैं।

Navodayatimes

ऐसी लव स्टोरी तो बॉलीवुड में किसी और की नहीं होगी। अजय और काजोल की शादी को कई साल बीत चुके हैं लेकिन काजोल ने अजय को उस वक्त अपना हमसफर चुना था जब अजय फिल्मों में स्ट्रगल कर रहे थे।

Navodayatimes

अजय देवगन और काजोल के दो बच्चे न्यसा देवगन और युग देवगन है। दोनों में न्यासा बड़ी हैं। 20 अप्रैल 2003 को जन्मी न्यासा 14 साल की हो चुकी हैं और सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं।

Navodayatimes

न्यासा अपने पिता अजय के काफी करीब हैं। एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया था, न्यासा बहुत समझदार हैं। वो बहुत ज्यादा सोचती है और चीजों को एनालाइज करती है।

Navodayatimes
अजय देवगन के बेटे युग देवगन का जन्म 2010 में हुआ था । अपनी फिटनेस को लेकर युग अभी से काफी एक्टिव रहते है। मात्र 8 साल की उम्र में उनके मूव्स देखकर हर कोई हैरान हर कोई हैरान रहता है।यश सोशल मीडिया पर अक्सर अपने वीडियो अपलोड करते रहते हैं।
 Navodayatimes

पद्मश्री अवार्ड्स समेत 32 पुरस्‍कार जीत चुकें हैं अजय देवगन 
फिल्‍मों में किए उनके प्रदर्शन के लिए उन्हें अब तक कुल 32 पुरस्कार मिल चुके हैं, जिनमें दो राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार, तीन फिल्मफेयर अवार्ड, एक जी सिने अवार्ड, स्क्रीन अवार्ड्स और स्टारडस्ट अवार्ड शामिल हैं। अभिनय पुरस्कारों के अलावा, देवगन ने बॉलीवुड में अचीवमेंट के लिए राजीव गांधी अवार्ड्स, ईटीसी बॉलीवुड बिजनेस अवार्ड्स में 2010 के सबसे लाभदायक सेलिब्रिटी, जसरत अवार्ड, एनडीटीवी एक्टर ऑफ द ईयर और पद्मश्री अवार्ड्स सहित कई पुरस्कार जीते हैं।

Navodayatimes

अजय देवगन की फिल्में :
फूल और काँटा (1991), जिगर (1992), दिव्या शक्ति (1993), प्लेटफार्म (1993), शक्तिमान (1993), एक ही रास्ता (1993), धनवान (1993), संग्राम (1993), दिलवाले (1994), विजयपथ (1994), सुहाग (1994), नाजायज (1995), गुंडाराज (1995), हकीकत (1995), जंग (1996), दिलजले (1996), जान (1996), इश्क (1997), इतिहास (1997), मेजर साब (1998), प्यार तो होना ही था (1998), होगी प्यार की जीत (1999), हम दिल दे चुके सनम (1999), हिंदुस्तान की कसम (1999),

Navodayatimes
गैर (1999), कच्चे धागे (1999), दिल क्या करे (1999), दीवाने (2000), राजू चाचा (2000), कंपनी (2002), द लीजेंड ऑफ भगत सिंह (2002), दीवानगी (2002), कयामत: सिटी अंडर थ्रेट (2003), गंगाजल (2003), खाकी (2004), मस्ती (2004), युवा (2004), इंसान (2005), टैंगो चार्ली (2005), काल (2005), मैं ऐसा ही हूँ (2005), अपहरण (2005), धरती कहे पुकार के (2006), ओमकारा (2006), कैश (2007), गोलमाल रिटर्न्स (2008), आल द बेस्ट: फन बैगिन्स (2009), 

Navodayatimes 
नाम (2009), लंदन ड्रीम्स (2009), अतिथि तुम कब जाओगे? (2010), राजनीति (2010), वन्स अपॉन अ टाइम इन मुंबई (2010), आक्रोश (2010), गोलमाल 3 (2010), सिंघम (2011), रासकल्स (2011), बोल बच्चन (2012), सन ऑफ सरदार (2012), मक्खी (2012), हिम्मतवाला (2013), सत्याग्रह (2013), सिंघम रिटर्न्स (2014), एक्शन जैक्सन (2014), दृश्यम (2015), फितूर (2016) शिवाय (2016), गोलमाल अगेन (2017),बादशाहो (2017), सिम्बा (2018), रेड (2018),टोटल धमाल (2019), दे दे प्यार दे (2019)।

Navodayatimes

Similar Post You May Like